Ken Gharial Sanctuary

Ken Sanctuary:- Ken Sanctuary is a famous place near Khujraho in Chhatarpur district of Madhya Pradesh. Where this sanctuary has been established to save the gharials from the country. The 45 km long river flows in the area of ​​Ken Gharial Sanctuary. The Ken Sanctuary is located near the city of Panna. Due to being surrounded by dense forests and colorful igneous rocks, its beauty becomes even more four fold. Two rivers Khudar and Ken river meet in Ken Gharial Sanctuary.

Along with alligators, there is a natural home of many types of creatures and snakes in this sanctuary. Its Gharial Sanctuary was allowed for the general public in 1985. 6 meter long crocodile species is found in this Gharial Sanctuary. This sanctuary is open to the general public from morning till evening.

In this Ken Gharial Sanctuary, many types of wild animals like-chikara, chital, wild boar, peacock, etc. are found on the sandy banks of the river. It is also known as Ken Gharial Sanctuary, Ken Century, Ken Wildlife Sanctuary, Ken Gharial Century. This crocodile century is also a part of Panna national flight. In Ken Wildlife Sanctuary, alligators have a longer mouth and smaller than other crocodiles.

Ken Gharial Sanctuary is spread over 45.2 kms. This place is situated at a distance of 25 km to the north of Panna Tiger Reserve. The river valleys in this sanctuary are built on the Ken River with a series of slopes 100 to 150 feet deep. The valleys here are very spectacular. Which is called the Greatest Canyon of India. Colored grenide, dolomind, basalt quartz and jasper are present in sufficient quantity in this igneous rock.

When the sun falls on these rocks, its flicker looks very lovely. These are igneous rocks formed by volcanic eruptions. These igneous rocks are spread over an area of ​​about 5 km. Ken Gharial Century has an old ruined palace which is completely broken. In this palace, when the rulers of Bundelkhand princely came on hunting, they used to stay in these palaces.

This sanctuary is the confluence of Ken river and Khudar rivers. This Ken Century is spread over an area of ​​45201 square kilometer. This place is situated in the north east of Khajuraho temple and north of Panna National Park. This Ken Century was inaugurated by a former deputy. In Ken Century, there is a complete system of boating in the Ken River. Here along with boating, there is a chance to see the animal up close. Raneh Falls is also present in Ken Century

The fast falling water from Raneh Falls presents a unique beauty of nature. Many waterfalls can be seen in this sanctuary during the rainy season. But the beauty of Raneh Falls mesmerizes the people. It is not a perennial spring.

How to reach: - Bus route - is present at a distance of 19 km from Khajuraho, from here a bus is available every one hour.

केन सेंचुरी :- मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले में खुजराहो के पास केन अभ्यारण्य एक प्रसिद्ध जगह है। जहां पर देश से लुफ्त हो रहे घड़ियालों का बचाने के लिए यह अभ्यारण्य स्थापित किया गया है।केन घड़ियाल अभयारण्य के क्षेत्र में ४५ किलोमीटर लम्बी नदी बहती है। केन अभयारण्य पन्ना शहर के पास में स्थित है। यह अभ्यारण्य घने जंगलो और रंगीन अग्निय चट्टानों से घिरा होने के कारण वह की खूबसूरती और भी चार गुनी हो जाती है। केन घड़ियाल अभ्यारण्य में दो नदियाँ खुदार और केन नदी आपस में मिलती है।

इस अभ्यारण्य में घड़ियालों के साथ साथ कई प्रकार के जीव व सरिसर्प का प्राकृतिक घर मौजूद है। इस के घड़ियाल अभ्यराण्य को आम जनता के लिए १९८५ में अनुमति मिल गई थी। इस घड़ियाल सेंचुरी में ६ मीटर लम्बे मगरमच्छ की प्रजाति पाई जाती है। यह सेंचुरी आम जनता के लिए सुबह से शाम तक खुली रहती है।

इस केन घड़ियाल अभ्यारण में नदी के रेतीला तटों पर अन्य जंतु जैसे -चिकारा ,चीतल , जंगली सूअर ,मोर,आदि कई प्रकार के जंगली जानवर देखने को मिल जाते है। इसे केन घड़ियाल अभ्यारण को ,केन सेंचुरी ,केन वन्यजीव अभ्यारण ,केन घड़ियाल सेंचुरी के नाम से भी जाना जाता है। यह घड़ियाल सेंचुरी भी पन्ना राष्ट्रीय उड़ान का इक हिस्सा है। केन वन्यजीव अभ्यारण में घड़ियाल का मुँह लम्बा तथा और मगरमच्छो से छोटे होते है।

केन घड़ियाल अभ्यारण 45.2 किलोमीटर में फैला हुआ है। यह स्थान पन्ना टाइगर रिज़र्व के उत्तर में २५ किलोमीटर दुरी पर स्थित है। इस अभ्यारण में नदी की घाटियां १०० से १५० फ़ीट गहरी ढलानों के एक श्रृंखला के साथ केन नदी पर बानी हुई है। यहाँ की घाटियां बहुत ही शानदार है। जिसे भारत का बहुत बड़ा कैन्यन कहा जाता है। इस आग्नेय चट्टानों में रंगीन ग्रेनाइड , डोलोमाइण्ड ,बेसाल्ट क्वाटर्ज और जैस्पर पर्याप्त मात्रा में मौजूद है।

इन चट्टानों पर जब धूप पड़ती है तो इसकी झिलमिलाहट बहुत ही प्यारी लगती है | ये आग्नेय चट्टानें जो की ज्वालामुखी विस्फोट से बानी हुई है | यह आग्नेय चट्टानें करीब ५ किलोमीटर के क्षेत्र में फैली हुई है | केन घड़ियाल सेंचुरी में एक पुराना खंडहर महल है जोकि बिलकुल टूट गया है | इस महल में बुंदेलखंड रियासत के शासक जब शिकार पर आते थे तो इन्ही महलो में रुका करते थे यहाँ पर एक संग्रहालय है जहाँ पर झरने के अनेको चित्र तथा विभिन्न प्रकार के पशु पंछियो के कलाकृति मौजूद है |

इस अभ्यारण्य केन नदी व खुदार नदियों का संगम है। यह केन सेंचुरी ४५२०१ वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में फैला हुआ है। यह स्थान खजुराहो मंदिर के उत्तर पूरब में तथा पन्ना राष्ट्रीय पार्क के उत्तर दिशा में मौजूद है। इस केन सेंचुरी का उद्घाटन पूर्व डिप्टी द्वारा किया गया था। केन सेंचुरी में केन नदी में नौकायान की पूरी व्यवस्था है। यहाँ बोटिंग के साथ साथ जानवर को पास से देखने का मौका मिलता है। केन सेंचुरी में रनेह फॉल भी मौजूद है।

रनेह जलप्रपात से तीव्र गति से गिरता हुआ जल प्रकृति का अनूठा सौंदर्य प्रस्तुत करता है। इस अभ्यारण्य में वर्षा ऋतु में अनेको झरने देखने को मिल जाते है। लेकिन रनेह फॉल की सुंदरता लोगो को मंदमुगध कर देती है। यह बारहमासी झरना नहीं है।

कैसे पहुंचे :- बस मार्ग -खजुराहो से १९ किलोमीटर की दुरी पर मौजूद है यहाँ से हर एक घंटे पर बस मिल जाती है ।

  • ken-gharial-sanctuary
  • ken-gharial-sanctuary
  • panna-tiger-reserve-in-panna-6
  • panna-tiger-reserve-in-panna-3
ken-gharial-sanctuary-in-panna ken-gharial-sanctuary-in-panna-2 ken-gharial-sanctuary-in-panna-bear-1 ken-gharial-sanctuary-in-pana-india

For Enquery

Email Id:- [email protected]

Call us at Tel: +918587034120

Contact Us